अमेरिकी विदेश विभाग
एंटनी जे. ब्लिंकन, अमेरिकी विदेश मंत्री
वाशिंगटन डीसी
फरवरी 17, 2021

विदेश मंत्री राब:  महामहिम जेरांडी, आपके योगदान के लिए धन्यवाद। और अब मैं अमेरिकी विदेश मंत्री महामहिम एंटनी जे. ब्लिंकन को आमंत्रित करता हूं। आइए श्रीमान।

विदेश मंत्री ब्लिंकन:  डोमिनिक, आपका बहुत धन्यवाद, और आप सबके बीच आज यहां उपस्थित होकर खुशी हो रही है। मैं ट्यूनीशिया के अपने सहयोगी का उनके बहुत ही प्रभावी भाषण के लिए धन्यवाद करता हूं, और मैं इस वास्तविक वैश्विक चुनौती के विरुद्ध महासचिव गुटेरेस के नेतृत्व के लिए आभार व्यक्त करता हूं।

श्री राब, विशेष रूप से टीके की उपलब्धता संबंधी, संघर्ष प्रभावित क्षेत्रों समेत, बाधाओं के मुद्दे पर हमें एकजुट करने के लिए आपका धन्यवाद। हम सभी जानते हैं, हम सभी महसूस करते हैं कि ये महामारी बड़ी संख्या में परिवारों और समुदायों पर आफ़त बनकर टूटी है। और सबसे पहले, इंसानियत के नाते उन सब के प्रति हम अपनी हमदर्दी व्यक्त करते हैं।

वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अथक वैश्विक प्रयासों के कारण कई सुरक्षित और प्रभावी टीके, दवाइयां और उपचार विकसित किए जा चुके हैं, और ये उल्लेखनीय उपलब्धियां हैं। निजी क्षेत्र और सरकारों के बीच सहयोग के कारण सुरक्षित और प्रभावी कोविड-19 टीकों के लिए वैश्विक विनिर्माण क्षमता का विस्तार तो हो रहा है — लेकिन वैश्विक ज़रूरतों के अनुरूप पर्याप्त तेज़ी से नहीं।

अमेरिका विनिर्माण और वितरण क्षमता का विस्तार करने और उपलब्धता बढ़ाने, हाशिए पर मौजूद आबादी समेत, के लिए दुनिया भर में अपने साझेदारों के साथ काम करेगा।

इस महामारी को समाप्त करने की दिशा में हमारी योजनाएं कुछ इस प्रकार हैं। जैसा कि आपने देखा होगा, राष्ट्रपति बाइडेन के पहले राष्ट्रीय सुरक्षा निर्देश में स्पष्ट किया गया है कि अमेरिका फिर से स्वास्थ्य क्षेत्र में वैश्विक नेता के रूप में काम करेगा। अमेरिका का मानना है कि बहुपक्षवाद, संयुक्तराष्ट्र और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) आवश्यक हैं — न केवल कोविड-19 संबंधी प्रभावी अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य और मानवीय  प्रयासों की दृष्टि से, बल्कि भविष्य के लिए मज़बूत वैश्विक स्वास्थ्य क्षमता और सुरक्षा तंत्र के निर्माण के लिए भी। हमारे पास कोविड-19 की तात्कालिक चुनौती है; हमारे पास एक दीर्घकालिक चुनौती है, लेकिन उतना ही महत्वपूर्ण है, आगे बढ़ते हुए यथासंभव सर्वाधिक सुदृढ़ वैश्विक स्वास्थ्य तंत्र की स्थापना करना।

कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य और गिनी में फिर से इबोला फैलने की खबरों को देखते हुए, हमारे पास समय नष्ट करने का विकल्प नहीं है।

और हमारा संकल्प विशाल होना चाहिए। हमें कोविड-19 को हराना और भविष्य की महामारियों को रोकना होगा। इसके लिए हम डब्ल्यूएचओ को मज़बूत करने और उसमें सुधार लाने; वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंडा का समर्थन करने; जैविक ख़तरों के विरुद्ध पक्की व्यवस्था करने; तथा टेस्टिंग, ट्रेसिंग और पीपीई ज़रूरतों को अधिक शीघ्रता से पूरा करके ज़िंदगियां बचाने हेतु एक चेतावनी प्रणाली के निर्माण के लिए दुनिया भर के साझेदारों के साथ मिलकर काम करेंगे।

हम स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए एक स्थायी टिकाऊ वित्तपोषण तंत्र की निर्माण प्रक्रिया, जिसकी आवश्यकता लंबे समय से थी, को भी तेज़ कर रहे हैं, ताकि हम दुनिया को भावी महामारियों के विरुद्ध, इस महामारी की तुलना में, कहीं अधिक बेहतर तैयार कर सकें।

हम डब्ल्यूएचओ, कोविड-19 वैक्सीन ग्लोबल एक्सेस फ़ैसिलिटी और कोविड-19 टूल्स एक्सेलेरेटर के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। और हमने हाल ही में एसीटी फैसिलिटेशन काउंसिल में अपनी भागीदारी को प्रेक्षक से बढ़ाकर प्रतिभागी स्तर का कर दिया है।

हम टीकों के वैश्विक गठबंधन गावी के ज़रिए कोवैक्स को महत्वपूर्ण वित्तीय सहायता प्रदान करने की योजना बना रहे हैं। और हम वैश्विक कोविड-19 प्रयासों में शामिल अन्य बहुपक्षीय पहलक़दमियों को मज़बूत करने का काम करेंगे — उदाहरण के लिए, महामारी के विरुद्ध तैयारी और नवाचार संबंधी गठबंधन, तथा एड्स, क्षय रोग और मलेरिया से लड़ने के लिए वैश्विक कोष।

ये प्रतिबद्धताएं एक दीर्घकालिक परंपरा पर आधारित हैं। पिछले दो दशकों में, अमेरिका ने वैश्विक स्वास्थ्य सहायता में 140 बिलियन डॉलर से अधिक का योगदान दिया है। अब हम कोविड-19 संबंधी अंतरराष्ट्रीय प्रयासों में भी सबसे बड़ा योगदानकर्ता हैं।

आज, मुझे यह पुष्टि करते हुए खुशी हो रही है कि महीने के अंत तक अमेरिका का डब्ल्यूएचओ को आकलित और वर्तमान दायित्वों के मद में 200 मिलियन डॉलर से अधिक के भुगतान का इरादा है। यह डब्ल्यूएचओ सदस्य के रूप में अपने वित्तीय दायित्वों को पूरा करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम है। और यह डब्ल्यूएचओ को महामारी के विरुद्ध वैश्विक प्रयासों का नेतृत्व करने के लिए ज़रूरी समर्थन सुनिश्चित करने की हमारी नई प्रतिबद्धता को दर्शाता है, साथ ही हम भविष्य के लिए इसमें सुधार का भी प्रयास कर रहे हैं।

प्रत्येक देश को अपने हिस्से का काम करने और कोविड-19 के विरुद्ध प्रयासों में योगदान करने की आवश्यकता है। हमने पहले ही दुनिया भर में सरकारों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों, और ग़ैरसरकारी संगठनों को कोविड-19 और इसके द्वितीयक प्रभावों को कम करने में मदद हेतु आपातकालीन आर्थिक, स्वास्थ्य और मानवीय सहायता में 1.6 बिलियन डॉलर से अधिक की सहायता की घोषणा की है। और यह धनराशि गावी के व्यापक टीकाकरण प्रयासों के समर्थन में 2020 से 2023 के बीच 1.16 बिलियन डॉलर की प्रतिबद्धता के अलावा है।

आगे बढ़ते हुए, हमारे लिए इस बात पर विचार करना महत्वपूर्ण है कि महामारी ने सबसे अधिक किसे नुक़सान पहुंचाया है। महासचिव ने हमसे महिलाओं और बालिकाओं को कोविड-19 और रिकवरी संबंधी प्रयासों के केंद्र में रखने का आह्वान किया है। हम सबके सामने जो डेटा है, उसमें लैंगिक समानता में गहरी गिरावट दिखाई गई है, जिसमें लैंगिक पहचान आधारित हिंसा में तेज़ी भी शामिल हैं क्योंकि महामारी के दौरान परिवारों के सदस्य बिल्कुल पास-पास रहने के लिए बाध्य हैं।

हमें सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1325 का कार्यान्वयन जारी रखने की आवश्यकता है और हमें परिषद के प्रस्ताव 2475 को लागू करने के अपने प्रयासों को तेज़ करना होगा। हमें लैंगिक समानता, विकलांगों तथा अन्य कमज़ोर और हाशिए पर पड़े समूहों पर महासचिव के विभिन्न कोविड-19 नीति निर्देशों का समर्थन करना चाहिए। “हमे साथ लिए बिना हमारे बारे में कुछ भी नहीं” के सिद्धांत का पालन करते हुए, इन समूहों को सभी स्तरों पर निर्णयकर्ताओं के रूप में शामिल किया जाना चाहिए।

और, देशों को उनके मानवाधिकार दायित्वों के लिए ज़िम्मेमदार ठहराया जाना चाहिए। किसी भी देश को कोविड-19 को मानवाधिकारों या मौलिक स्वतंत्रता के उल्लंघन के बहाने के रूप में उपयोग करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। हम सभी देशों से टीकों के बारे में ग़लत सूचनाओं का मुकाबला करने का भी आह्वान करते हैं। यदि हम ऐसा नहीं करेंगे, तो हम अपने मिशन को गंभीर संकट में डाल रहे होंगे।

सुरक्षित और प्रभावी टीकों की सुलभता को बढ़ाने के साथ-साथ हम जानते हैं कि आने वाले वर्षों में भी कोविड-19 का प्रकोप होते रहने की संभावना है। इस महामारी की उत्पत्ति के बारे में चल रही विशेषज्ञ जांच — और इस पर आने वाली रिपोर्ट — स्वतंत्र होनी चाहिए, जिसके निष्कर्ष विज्ञान और तथ्यों पर आधारित और हस्तक्षेप से मुक्त हों।

इस महामारी को बेहतर ढंग से समझने और अगली महामारी के खिलाफ़ तैयार रहने के लिए, सभी देशों को किसी भी प्रकोप के आरंभिक दिनों से ही डेटा उपलब्ध कराने चाहिए। और आगे बढ़ते हुए, सभी देशों को स्वास्थ्य आपदाओं को रोकने और उनके मुक़ाबले के लिए एक पारदर्शी और मजबूत प्रक्रिया से जुड़ना चाहिए, ताकि दुनिया यथासंभव शीघ्रता से अधिकतम जानकारी पा सके। पारदर्शिता, सूचना साझाकरण, अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों को अनुमति — ये एक वास्तविक वैश्विक चुनौती के खिलाफ़ हमारी साझा कार्यप्रणाली की पहचान होनी चाहिए।

प्रस्ताव 2532 की भाषा अब भी उतनी ही प्रासंगिक है, जितनी 2020 के जुलाई में इसे अपनाए जाते समय थी। युद्ध, हिंसा और खराब स्वास्थ्य ढांचे के कारण कमज़ोर पड़े संघर्ष प्रभावित देशों पर महामारियों और उन अन्य बीमारियों का अत्यधिक जोख़िम बना रहता है जिन्हें कि रोग प्रतिरक्षण कार्यक्रमों के ज़रिए रोकना संभव है। और, इस महामारी ने पहले से ही गंभीर मानवीय और राजनीतिक संकटों की स्थिति को और बदतर कर दिया है, जिससे कारण सहायता की अभूतपूर्व ज़रूरत बन पड़ी है।

हम जानते हैं कि हिंसा और संघर्ष के बीच बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियानों का आयोजन और कार्यान्वयन बहुत मुश्किल होगा। लेकिन हमें ये करना ही होगा, ताकि मानवीय संकट और गंभीर नहीं बन पाएं, और महामारी के द्वितीयक प्रभाव नाज़ुक राजनीतिक परिस्थितियों को और बिगाड़ नहीं सकें।

जैसा कि राष्ट्रपति बाइडेन ने स्पष्ट किया है, अमेरिका वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए एक साझेदार के रूप में काम करेगा। यह महामारी उन चुनौतियों में से एक है। और यह हमें एक मौक़ा देती है, न केवल वर्तमान संकट से सुरक्षित निकलने के लिए, बल्कि भविष्य के लिए अधिक तैयार और अधिक सुदृढ़ बनने के लिए भी।

धन्यवाद, और हम सभी को प्रभावित करने वाली इस चुनौती पर आपके साथ मिलकर काम कर पाने के अवसर के लिए मैं आभारी हूं।


मूल स्रोत: https://www.state.gov/secretary-antony-j-blinken-remarks-to-the-un-security-council-briefing-on-covid-19-and-vaccine-access/

अस्वीकरण: यह अनुवाद शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेज़ी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।

 

 

 

U.S. Department of State

The Lessons of 1989: Freedom and Our Future