व्हाइट हाउस
फ़ैक्ट शीट
जून 3, 2021

स्वदेश में कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला और दुनिया भर में महामारी को ख़त्म करने का प्रयास करते हुए, राष्ट्रपति बाइडेन ने वादा किया है कि अमेरिका दुनिया के लिए टीकों का भंडार बनेगा। इस संभव करने के लिए प्रशासन कोवैक्स में हमारी भारी फ़ंडिंग से परे कई अतिरिक्त उपाय करेगा: अमेरिका में होने वाली आपूर्ति से दुनिया को टीके दान करना और अन्य देशों को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करना, शेष विश्व के लिए टीका उत्पादन बढ़ाने हेतु अमेरिकी निर्माताओं के साथ काम करना, तथा वैश्विक सप्लाई चेन के समर्थन सहित टीका उत्पादन की क्षमता के विस्तार में विभिन्न देशों की मदद करना। टीकों की ये रणनीति कोविड-19 को हराने के प्रयासों में दुनिया का नेतृत्व करने की हमारी व्यापक वैश्विक रणनीति का एक महत्वपूर्ण घटक है, जिसमें आपात जनस्वास्थ्य सहायता, महामारी के प्रसार को रोकने के लिए सहायता, और न केवल इस महामारी को बल्कि भावी महामारी को भी हराने के लिए वैश्विक जनस्वास्थ्य क्षमता निर्माण और आवश्यक तैयारियां शामिल हैं।

आज प्रशासन ने जून के अंत तक दुनिया भर में अमेरिकी टीकों की कम से कम 80 मिलियन ख़ुराके साझा करने के कार्यक्रम की रूपरेखा और पहली 25 मिलियन खुराक के वितरण की योजना की घोषणा की।

विशेष रूप से, प्रशासन ने घोषणा की है कि:

अमेरिका विश्व स्तर पर महामारी को समाप्त करने के उद्देश्य से टीके साझा करेगा। प्रशासन ने आज दुनिया भर में इन अमेरिकी टीकों की 80 मिलियन ख़ुराकों के वितरण की रूपरेखा घोषित की। विशेष रूप से, अमेरिका ये काम करेगा:

इनमें से 75% टीकों को कोवैक्स के माध्यम से साझा करना। अमेरिका दान की जाने वाली अपनी टीका ख़ुराकों का कम से कम तीन-चौथाई हिस्सा कोवैक्स के माध्यम से साझा करेगा, और ज़रूरतमंद देशों को अमेरिकी टीकों की आपूर्ति करेगा। इससे अधिकतम देशों के लिए और उन देशों में भी सर्वाधिक जोख़िम वालों के लिए उपलब्ध टीकों की संख्या बढ़ेगी। कोवैक्स के माध्यम से साझा की जाने वाली ख़ुराकों के लिए अमेरिका लैटिन अमेरिका और कैरिबियन, दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया तथा अफ्रीका को, अफ्रीकी संघ के समन्वय में, प्राथमिकता देगा।

तात्कालिक जरूरतों और दुनिया भर में महामारी के प्रकोप में तेज़ी से निपटने हेतु 25% ख़ुराक साझा करना। अमेरिका को दुनिया भर के देशों से टीकों के लिए अनुरोध प्राप्त हुए हैं। अमेरिका दान में दी जाने वाली अपनी टीका ख़ुराकों का एक-चौथाई हिस्सा सीधे ज़रूरतमंद देशों, महामारी में तेज़ी का सामना कर रहे देशों निकटतम पड़ोसियों और तत्काल अमेरिकी सहायता का अनुरोध करने वाले अन्य देशों को उपलब्ध कराएगा। विशेष रूप से, हम: विस्तृत वैश्विक कवरेज का आधार तैयार करेंगे। दान की गई ख़ुराकों की इस पहली किस्त का आवंटन सभी क्षेत्रों में प्रयास करने और दुनिया भर में आपूर्ति और सुलभता बढ़ाने हेतु आधार तैयार करने की अमेरिका की इच्छा को दर्शाता है।

महामारी में तेज़ी के मद्देनज़र तैयारी तथा जनस्वास्थ्य डेटा और मान्य सर्वोत्तम प्रथाओं के अनुरूप स्वास्थ्यकर्मियों और अधिक जोखिम वाले लोगों को प्राथमिकता देना। हम तात्कालिक आवश्यकता वाले देशों को ख़ुराकें देंगे और अग्रिम पंक्ति के कार्मिकों के टीकाकरण को प्राथमिकता देंगे। अमेरिका अपने टीकों का उपयोग अन्य देशों से फ़ायदा उठाने के लिए नहीं करेगा। अमेरिका उन साझेदारों के साथ काम करेगा जो तैयार और ज़रूरतमंद दोनों हैं। हमारे दान में टीके संबंधी योजना तैयार रखने वाले देशों को प्राथमिकता दी जाएगी, जिसमें गंभीर बीमारी के सर्वाधिक जोखिम वाले व्यक्तियों और उनके स्वास्थ्य की देखभाल में मददगार लोगों, जैसे स्वास्थ्यकर्मियों को प्राथमिकता दी जाती हो।

ज़रूरतमंद देशों और अपने पड़ोसियों की मदद करना। अमेरिका अपने क्षेत्र में और अपनी सीमाओं के परे टीके वितरित करेगा। हमने सबसे पहले अपने निकटतम पड़ोसियों कनाडा और मेक्सिको को टीके की ख़ुराकें उपलब्ध कराई। ख़ुराक साझा करने का हमारा दृष्टिकोण प्रति व्यक्ति के आधार पर लैटिन अमेरिकियों और कैरिबियाइयों को प्राथमिकता देता है।

अमेरिका ने पहली 25 मिलियन ख़ुराकों के लिए प्रस्तावित आवंटन योजना घोषित की। उपरोक्त रूपरेखा तथा लंबित क़ानूनी और नियामक अनुमोदनों के आधार पर, अमेरिका की अपनी 25 मिलियन ख़ुराकों की पहली किस्त वितरित करने की ये योजना है:

लगभग 19 मिलियन ख़ुराकें कोवैक्स के माध्यम से निम्न रूप में आवंटित की जाएंगी:

लगभग 6 मिलियन ख़ुराकें दक्षिण और मध्य अमेरिका के इन देशों के लिए: ब्राजील, अर्जेंटीना, कोलंबिया, कोस्टारिका, पेरू, इक्वाडोर, पराग्वे, बोलीविया, ग्वाटेमाला, अल सल्वाडोर, होंडुरास, पनामा, हैती और कैरेबियाई समुदाय (कैरिकॉम) के अन्य देश, साथ ही डोमिनिकन गणराज्य।

लगभग 7 मिलियन ख़ुराकें एशिया के निम्नलिखित देशों के लिए: भारत, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका, अफ़ग़ानिस्तान, मालदीव, मलेशिया, फिलीपींस, वियतनाम, इंडोनेशिया, थाईलैंड, लाओस, पापुआ न्यू गिनी, ताइवान और प्रशांत द्वीप समूह।

अफ्रीका के लिए लगभग 5 मिलियन ख़ुराकें अफ्रीकी संघ के समन्वय से चयनित देशों के लिए।

लगभग 6 मिलियन ख़ुराकें क्षेत्रीय प्राथमिकताओं के अनुरूप और साझेदार प्राप्तकर्ताओं के साथ साझा की जाएंगी जिनमें मेक्सिको, कनाडा, दक्षिण कोरिया, वेस्ट बैंक और गज़ा, यूक्रेन, कोसोवो, हैती, जॉर्जिया, मिस्र, जॉर्डन, इराक़ और यमन, तथा साथ ही संयुक्तराष्ट्र के अग्रिम पंक्ति के कार्मिक शामिल हैं।

अन्य देशों के साथ लाखों अमेरिकी टीके साझा करना अमेरिकी सरकार की एक प्रमुख प्रतिबद्धता को दर्शाता है। जैसा कि अमेरिका में हुआ, हम अमेरिका और मेज़बान देशों के नियामक और क़ानूनी प्रावधानों का पालन करते हुए विदेशों में भी टीकों के सुरक्षित और निरापद आपूर्ति की दिशा में यथासंभव तेज़ी से आगे बढ़ेंगे। इसमें समय लगेगा, लेकिन राष्ट्रपति ने लोगों को यथाशीघ्र इस वायरस से बचाने के लिए प्रशासन को अमेरिकी सरकार के तमाम प्रभावों का उपयोग करने का निर्देश दिया है। टीका विशेष और उसकी मात्राओं की जानकारी शीघ्र ही निर्धारित और साझा की जाएगी क्योंकि प्रशासन प्रत्येक क्षेत्र और देश के विशिष्ट लॉजिस्टिक, नियामक और अन्य मापदंडों को पूरा करने के लिए प्रयासरत है।


मूल स्रोत: https://www.whitehouse.gov/briefing-room/statements-releases/2021/06/03/fact-sheet-biden-harris-administration-unveils-strategy-for-global-vaccine-sharing-announcing-allocation-plan-for-the-first-25-million-doses-to-be-shared-globally/ 

अस्वीकरण: यह अनुवाद शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेज़ी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।

U.S. Department of State

The Lessons of 1989: Freedom and Our Future