तत्काल जारी करने हेतु
व्हाइट हाउस
ईस्ट रूम
फरवरी 15, 2022
3:29 अपराह्न, ईएसटी

राष्ट्रपति बाइडेन: नमस्कार। आज, मैं रूस और यूक्रेन से जुड़े संकट पर अद्यतन जानकारी देना चाहूंगा।

इस संकट की शुरुआत से ही, मेरी राय बिल्कुल स्पष्ट और एकसमान रही है: अमेरिका हर स्थिति के लिए तैयार है।

हम कूटनीति के लिए तैयार हैं – संपूर्ण यूरोप में स्थिरता और सुरक्षा बढ़ाने के वास्ते रूस और हमारे सहयोगी देशों एवं साझेदारों के साथ कूटनीति में संलग्न रहने के लिए।

और हम यूक्रेन पर रूसी हमले, जिसकी अभी भी बहुत संभावना है, का निर्णायक जवाब देने के लिए तैयार हैं।

पिछले कुछ हफ़्तों और महीनों की तमाम घटनाओं के मद्देनज़र, हमारा यही रवैया रहा है। और अभी भी हमारा यही रवैया है।

इसलिए, आज मैं अमेरिकी लोगों से ज़मीनी स्थिति के बारे में बात करना चाहता हूं – हमने जो क़दम उठाए हैं, जिन कार्रवाइयों के लिए हम तैयार हैं, हमारे और दुनिया के लिए क्या कुछ दांव पर लगा है, और यह यहां स्वदेश में हमें किस तरह प्रभावित कर सकता है।

पिछले कई हफ़्तों से, हमारे सहयोगी देशों एवं साझेदारों के साथ, मेरा प्रशासन लगातार कूटनीति में लगा हुआ है।

गत सप्ताहांत, मैंने फिर से यह स्पष्ट करने के लिए राष्ट्रपति पुतिन के साथ बात की कि हम वैध सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के लिए रूस, अमेरिका और यूरोप के राष्ट्रों के बीच लिखित सहमति पर पहुंचने के वास्ते उच्चस्तरीय कूटनीति जारी रखने के लिए तैयार हैं, यदि उनकी यही इच्छा है। उनकी और हमारी सुरक्षा चिंताओं पर।

राष्ट्रपति पुतिन और मैं इस बात पर सहमत थे कि हमारी टीमों को, हमारे यूरोपीय सहयोगी देशों एवं साझेदारों के साथ, इस दिशा में प्रयास जारी रखने चाहिए।

कल रूसी सरकार ने, सार्वजनिक रूप से, कूटनीति जारी रखने का प्रस्ताव रखा। मैं उस पर सहमत हूं। हमें कूटनीति को सफल होने का हर मौक़ा देना चाहिए। मेरा मानना ​​है कि हमारी पारस्परिक सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के उचित तरीक़े मौजूद हैं।

अमेरिका ने यूरोप में सुरक्षा का माहौल तैयार करने के लिए ठोस प्रस्ताव सामने रखे हैं।

हमने हथियार नियंत्रण के नए उपायों, पारदर्शिता के नए उपायों, रणनीतिक स्थिरता के नए उपायों का प्रस्ताव सामने रखा है। ये उपाय सभी पक्षों – नैटो और रूस – पर समान रूप से लागू होंगे।

और हम व्यावहारिक, परिणामोन्मुख क़दम उठाने के इच्छुक हैं जो हमारी साझा सुरक्षा को मज़बूत कर सकेंगे। हालांकि, हम बुनियादी सिद्धांतों का त्याग नहीं करेंगे।

राष्ट्रों को संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का अधिकार है। उन्हें अपना रास्ता खुद निर्धारित करने और यह चुनने की आज़ादी है कि वे किसके साथ जुड़ेंगे।

लेकिन इसके बावजूद कूटनीति और तनाव घटाने के तमाम विकल्प मौजूद हैं। हमारे विचार से सभी पक्षों के लिए यही सबसे अच्छा तरीक़ा है। और हम अपने सहयोगी देशों और साझेदारों के साथ गहन परामर्श करते हुए अपने कूटनीतिक प्रयास जारी रखेंगे।

जब तक कूटनीतिक समाधान की आशा है जोकि बलप्रयोग और उसके बाद की असाधारण मानवीय पीड़ा से बचाता हो, हम उसके लिए कोशिश करते रहेंगे।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने आज बताया है कि उसकी कुछ सैन्य इकाइयां यूक्रेन के पास अपने तैनाती की जगहों से पीछे हट रही हैं।

यह अच्छा होगा, लेकिन हमने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की है। हमने अभी तक यह सत्यापित नहीं किया है कि क्या रूसी सैन्य इकाइयां अपने मूल ठिकानों पर लौट रही हैं। वास्तव में, हमारे विश्लेषक अभी भी उनके बहुत ही आक्रामक स्थिति में बने होने का संकेत देख रहे हैं। और तथ्य ये है: अभी, रूस ने यूक्रेन की घेराबंदी में बेलारूस में और यूक्रेन की सीमा के साथ 150,000 से अधिक सैनिक तैनात कर रखे हैं।

स्पष्टतया आक्रमण अभी भी संभव है। इसलिए मैं कई बार कह चुका हूं कि यूक्रेन में मौजूद सभी अमेरिकी वहां से निकल जाएं, इससे पहले कि सुरक्षित निकलना संभव नहीं रह जाए। यही कारण है कि हमने अस्थायी रूप से अपने दूतावास को कीएव से हटाकर पश्चिमी यूक्रेन के लिवीव में स्थानांतरित कर दिया है, जो पोलैंड सीमा के निकट है।

और हम रूस की योजनाओं और स्थिति की गंभीरता के बारे में अमेरिकी लोगों और दुनिया को जानकारी देने में पारदर्शिता अपनाते रहे हैं ताकि हर कोई खुद देख सके कि क्या हो रहा है। हमारे पास क्या जानकारी है और उसके बारे में हम क्या कर रहे हैं, हमने ये सब साझा किया है।

हम जो नहीं कर रहे हैं, उसके बारे में भी मैं स्पष्ट बताना चाहूंगा:

अमेरिका और नैटो रूस के लिए ख़तरा नहीं हैं। यूक्रेन रूस के लिए ख़तरा नहीं बन रहा है।

न तो अमेरिका और न ही नैटो ने यूक्रेन में मिसाइलें तैनात की हैं। और न ही उन्हें वहां तैनात करने की हमारी कोई योजना है।

हम रूस के लोगों को लक्षित नहीं कर रहे हैं। हम रूस को अस्थिर नहीं करना चाहते हैं।

रूस के नागरिकों से मैं कहना चाहूंगा: आप हमारे दुश्मन नहीं हैं। और मैं नहीं मानता कि आप यूक्रेन के खिलाफ़ एक खूनी, विनाशकारी युद्ध चाहते हैं – जिस देश और जिसके लोगों के साथ आपके इतने गहरे पारिवारिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संबंध हैं।

सत्तर साल पहले, हमारे लोगों ने इतिहास के सबसे विनाशकारी युद्ध को समाप्त करने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर संघर्ष किया था और बलिदान दिया था।

द्वितीय विश्व युद्ध एक अपरिहार्य युद्ध था। लेकिन अगर रूस यूक्रेन पर हमला करता है, तो यह मर्ज़ी का युद्ध होगा, या एक अकारण या बेवजह युद्ध।

मैं ये बातें भड़काने के लिए नहीं बल्कि सच के हक़ में कह रहा हूं – क्योंकि सच्चाई मायने रखती है; जवाबदेही मायने रखती है।

यदि रूस आने वाले दिनों या हफ़्तों में आक्रमण करता है, तो यूक्रेन को भारी मानवीय क्षति झेलनी पड़ेगी, और रूस के लिए भी इसकी रणनीतिक लागत बहुत अधिक होगी।

यदि रूस यूक्रेन पर हमला करता है, तो इसकी भारी अंतरराष्ट्रीय निंदा होगी। दुनिया यह नहीं भूलेगी कि रूस ने बेवजह मौत और तबाही का विकल्प चुना।

यूक्रेन पर हमला एक आत्मकृत ज़ख्म साबित होगा।

अमेरिका और हमारे सहयोगी देश एवं साझेदार निर्णायक जवाब देंगे। पश्चिमी जगत एकजुट और उत्प्रेरित है।

आज, हमारे नैटो सहयोगी देश और गठबंधन हमेशा की तरह ही एकीकृत और कृतसंकल्प हैं। और हमेशा की तरह हमारे साझा लोकतांत्रिक मूल्यों की शक्ति, सुदृढ़ता और सार्वभौमिक पहचान हमारी अटूट ताक़त के स्रोत हैं।

क्योंकि यह सिर्फ रूस और यूक्रेन की बात नहीं है। यह उन सिद्धांतों के लिए खड़े होने के बारे में है जिन पर कि हम विश्वास करते हैं, यह उस भविष्य के बारे में है जोकि हम अपनी दुनिया के लिए चाहते हैं, यह स्वतंत्रता के बारे में है, अनगिनत देशों के अपना भविष्य चुनने के अधिकार के बारे में है, और लोगों के अपना भविष्य निर्धारित करने के अधिकार के बारे में है, इस सिद्धांत के बारे में कोई देश अपने पड़ोसी की सीमाओं को बलपूर्वक नहीं बदल सकता। यही हमारा नज़रिया है। और इसको लेकर, मुझे विश्वास है कि इस सोच की और स्वतंत्रता की जीत होगी।

अगर रूस आगे बढ़ता है, तो हम उसकी आक्रामकता का विरोध करने के लिए दुनिया को एकजुट करेंगे।

अमेरिका और हमारे सहयोगी देश एवं दुनिया भर के साझेदार भारी प्रतिबंध लगाने और निर्यात नियंत्रण लागू करने के लिए तैयार हैं, जिसमें ऐसी कार्रवाइयां भी शामिल हैं जो 2014 में क्रीमिया और पूर्वी यूक्रेन पर रूसी हमले के समय हमने नहीं की थीं। हम उनके सबसे बड़े और सर्वाधिक महत्वपूर्ण वित्तीय संस्थानों और प्रमुख उद्योगों पर भारी दबाव बनाएंगे।

रूस के हमला करने की स्थिति में, इन उपायों के त्वरित कार्यान्वयन की तैयारी कर ली गई है। हम दीर्घकालिक क़ीमत थोपेंगे जो आर्थिक और रणनीतिक रूप से प्रतिस्पर्धा करने की रूस की क्षमता को कमज़ोर करेगी।

और जहां तक नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन की बात है, जिसे रूस से जर्मनी तक प्राकृतिक गैस पहुंचाने के लिए बनाया गया है, तो अगर रूस ने यूक्रेन पर फिर से आक्रमण किया, तो ऐसा नहीं हो पाएगा।

हालांकि मैं यूक्रेन में रूस से लड़ने के लिए अमेरिकी सैनिकों को नहीं भेजूंगा, हमने आत्मरक्षा में मदद करने के लिए यूक्रेनी सेना को सैन्य उपकरणों की आपूर्ति की है। हमने इस उद्देश्य के लिए प्रशिक्षण और सलाह और खुफ़िया जानकारियां भी प्रदान की हैं।

और कोई संदेह नहीं रहे: अमेरिका अपनी पूरी ताक़त लगाकर नैटो क्षेत्र के हर इंच की रक्षा करेगा। किसी भी नैटो देश पर हमला हम सभी पर हमला माना जाता है। और अमेरिका के लिए नैटो के अनुच्छेद 5 के लिए प्रतिबद्धता सर्वोपरि है।

पहले ही, रूस के सैन्य जमावड़े के जवाब में, मैंने नैटो के पूर्वी हिस्से को मज़बूत करने के लिए अतिरिक्त अमेरिकी बलों को भेजा है।

हमारे कई सहयोगी देशों ने भी घोषणा की है कि वे नैटो के पूर्वी हिस्से में निवारक क्षमता और रक्षा सुनिश्चित करने के लिए वहां अपने बलों और क्षमताओं को बढ़ाएंगे।

हम रक्षात्मक तैयारी बढ़ाने के लिए अपने सहयोगी देशों और साझेदारों के साथ सैन्य अभ्यास करना भी जारी रखेंगे।

और अगर रूस आक्रमण करता है, तो हम नैटो में अपनी उपस्थिति को सुदृढ़ करने, अपने सहयोगियों को आश्वस्त करने और आगे आक्रामकता को रोकने के लिए और भी क़दम उठाएंगे।

इस संकट को लेकर रिपब्लिकन और डेमोक्रेट एकजुट हैं। और मैं अमेरिकी कांग्रेस में दोनों पार्टियों के नेताओं और सदस्यों को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने हमारे सबसे बुनियादी, सर्वाधिक द्विदलीय सहमति वाले और सर्वाधिक पक्के अमेरिकी सिद्धांतों की रक्षा को लेकर ज़ोरदार आवाज़ उठाई है।

मैं इस बात का दिखावा नहीं करूंगा कि ये सब पीड़ारहित होगा। हमारी ऊर्जा क़ीमतों पर प्रभाव पड़ सकता है, इसलिए हम अपने ऊर्जा बाज़ारों पर दबाव कम करने और क़ीमतों को कम रखने के लिए सक्रिय क़दम उठा रहे हैं।

हम प्रमुख ऊर्जा उपभोक्ताओं और उत्पादकों के साथ समन्वय कर रहे हैं। हम पेट्रोल पंप पर राहत प्रदान करने के लिए तमाम उपलब्ध विकल्पों और अधिकारों के इस्तेमाल के लिए तैयार हैं।

और मैं उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने और पंप पर क़ीमतों को नियंत्रित रखने हेतु अतिरिक्त उपायों पर अमेरिकी कांग्रेस के साथ काम करूंगा।

हम रूस के साथ सीधा टकराव नहीं चाहते हैं, लेकिन मैंने स्पष्ट किया है कि अगर रूस यूक्रेन में अमेरिकियों को निशाना बनाता है, तो हम पूरी ताक़त से जवाब देंगे।

और अगर रूस अमेरिका या हमारे सहयोगी देशों पर अनियमित तरीक़ों से हमला करता है, जैसे हमारी कंपनियों या अहम बुनियादी ढांचों के खिलाफ़ विघटनकारी साइबर हमले, तो हम जवाब देने के लिए तैयार हैं।

साइबरस्पेस में ख़तरों के खिलाफ़ अपनी सामूहिक रक्षा को मज़बूत करने के लिए हम अपने नैटो सहयोगी देशों और साझेदारों के साथ क़दम मिलाकर चल रहे हैं।

दोनों रास्ते अभी भी खुले हैं।  वैश्विक स्थिरता के प्रति रूस और अमेरिका की ऐतिहासिक ज़िम्मेदारियों को ध्यान में रखते हुए, हमारे साझा भविष्य के हित में – हमें कूटनीति का रास्ता चुनना चाहिए।

लेकिन कोई संदेह नहीं रहे: अगर रूस यूक्रेन पर हमला करके इसका उल्लंघन करता है, तो दुनिया भर के ज़िम्मेदार देश जवाब देने में संकोच नहीं करेंगे।

अगर हम आज़ादी के लिए, जहां ये ख़तरे में है, आज  खड़े नहीं होंगे, तो कल हमें निश्चित रूप से कहीं अधिक क़ीमत चुकानी पड़ेगी।

शुक्रिया। मैं आपको जानकारी देते रहूंगा।

3:50 अपराह्न ईएसटी


मूल स्रोत: https://www.whitehouse.gov/briefing-room/speeches-remarks/2022/02/15/remarks-by-president-biden-providing-an-update-on-russia-and-ukraine/ 

अस्वीकरण: यह अनुवाद शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेज़ी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।

U.S. Department of State

The Lessons of 1989: Freedom and Our Future