अमेरिकी विदेश विभाग
प्रवक्ता कार्यालय
टिप्पणी
22 सितंबर, 2021
पैलेस होटल
न्यूयॉर्क सिटी, न्यूयॉर्क

सेक्रेटरी ब्लिंकेन: गुड आफ्टरनून, सभी को।

हम एक चुनौतीपूर्ण समय में मिल रहे हैं। अठारह महीने पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 को महामारी घोषित किया था, हम आज वहां नहीं हैं जहां हमें होना चाहिए। वायरस लगातार फैल रहा है और हमें चकमा दे रहा है। कई जगहों पर, यह अब तक की अपनी सबसे तेज़ गति से फैल रहा है, और एक बहुत छोटी संख्या में ही देश अपने पर्याप्त लोगों को टीका लगा पा रहे हैं।

इसके प्रभाव को मापा जा सकता है कि इस बात से कि पूरी दुनिया में साढ़े चार मिलियन लोगों की जान इस महामारी ने ली है और हम उन सभी प्रियजनों की हुई हानि के लिए शोक प्रकट करने में आपके साथ हैं।

इसके परिणाम, हम जानते हैं, कि दूसरे तरीके से भी मापे जा सकते हैं: वैश्विक अर्थव्यवस्था का हर प्रमुख सेक्टर परेशान हुआ, कृषि से लेकर मैनुफैक्चरिंग और पर्यटन उद्योग; असमानता बढी; भुखमरी बढ़ी; चुनाव स्थगित हुए।

आज का सम्मेलन यह बात कहने से कहीं अधिक है कि हम बेहतर करेंगे। यह सम्मेलन हमारे लिए अपनी प्रतिबद्धताएं जताने और इस महामारी को पूरी तरह से खत्म करने हेतु एक रास्ता बनाने के लिए है।

और ये वो बातें हैं जो मेरा मानना है कि हमें करने की ज़रूरत है।

पहला, हमें अरबों लोगों को टीका लगाना है, और जल्दी लगाना है, 2022 में हमें पूरी तरह से टीका लगाना है सत्तर प्रतिशत आबादी को, हर देश में, हर वर्ग में।

दूसरा, हमें साहसिक कदम उठाने होंगे जानें बचाने के लिए, ऑक्सीजन संकट को सुलझाने से लेकर टेस्टिंग क्षमता में फैले बड़े गैप्स को कम करना हो या फिर ये सुनिश्चित करना कि हर जगह फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मियों के पास पीपीई किट उपलब्ध हो।

और तीसरा, हमें फिर से बेहतर निर्माण करना होगा वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा के मद्देनजर, खास तौर पर एक ऐसा नेतृत्व और सतत फंडिग की प्रणाली बनाकर जो अगली किसी महामारी को रोके और उससे लड़ पाए।

इस हर एक क्षेत्र में, हमें सहमत होना होगा महत्वाकांक्षी और समयबद्ध लक्ष्यों पर और खुल कर अपनी प्रगति की निगरानी करनी होगी ताकि हम लक्ष्यों को प्राप्त कर पाएं और जो भी इस प्रयास का हिस्सा हो उसकी और हम खुद की ज़िम्मेदारी तय कर सकें।

जिन नई प्रतिबद्धताओं की घोषणा आज राष्ट्रपति बाइडेन ने की हैं, जिसमें फाइजर वैक्सीन की अतिरिक्त आधा अरब खुराकें खरीदना शामिल है, जिससे कि हमारी कुल प्रतिबद्धता 1.1 अरब खुराकों की हो गई है। यह दर्शाता है कि अमेरिका इस मामले में जुड़ा हुआ है और नेतृत्व करना जारी रख रहा है।

इसी तरह से हम प्रतिबद्ध हैं काम करने के लिए वैश्विक वैक्सीन बनाने वालों के साथ ताकि वैश्विक और क्षेत्रीय स्तर पर एमआरएनए वैक्सीन, वायरल वेक्टर और प्रोटीन सबयूनिट कोविड-19 वैक्सीन बन सके। और हमने प्रतिबद्धता जताई है कि वैक्सीन खुराकों को बनाने, उनके उत्पादन और प्रोजेक्शन के संबंध में डाटा को लेकर हम पूरी पारदर्शिता बरतेंगे। हम अपने उन उपायों को भी तेज कर रहे हैं जो वैक्सीन को लोगों तक पहुंचाने से जुड़ी है, ताकि वायरस से हो रही मृत्यु दर कम हो, ऑक्सीजन की सुलभता और टेस्टिंग बढ़ सके। यह सब करना हमारे एजेंडा का हिस्सा है।

ये और ऐसी अन्य प्रतिबद्धताएं उन महत्वाकांक्षी कदमों का निर्माण करती हैं जो कदम हमने अब तक उठाए हैं जिसमें गावी और ग्लोबल फंड के लिए अरबों डॉलर दिया जाना, देशों और समुदायों को यूएसएड और सीडीसी के जरिए मदद के तौर पर मिलियनों डॉलर देना शामिल है। इसमें वित्त मंत्री येलेन का सफल आहवान भी है जो उन्होंने स्पेशल ड्राइंग राइट्स के लिए किया है जो हमारे अस्थायी ट्रिप्स वेबर को समर्थन से जुड़ा है।

सीधे शब्दों में कहें तो हम अपने पास मौजूद हर चीज का इस्तेमाल कर रहे हैं कि वायरस को फैलने से रोक सकें।

और इसमें शामिल है अपने सहयोगियों के साथ मिल कर काम करना ताकि हम बहुस्तरीय प्रतिबद्धताओं को सुनिश्चित कर सकें अगली जी-20 बैठक में, जिसकी अगुआई प्रधानमंत्री द्रागही करेंगे जो आज हमारे साथ यहां मौजूद हैं।

मैं व्यक्तिगत तौर पर इस साल के खत्म होने से पहले विदेश मंत्रियों की बैठक की योजना बना रहा हूं ताकि ये सुनिश्चित किया जा सके कि हमने इस बैठक में और जी-20 में जो प्रतिबद्धताएं की हैं, उस पर नज़र रखी जा सके। और राष्ट्रपति बाइडेन अगले साल 2022 के पहले चार महीनों में ही राष्ट्राध्यक्षों की बैठक करने वाले हैं। हमें सतत रूप से साथ मिलकर काम करना है और एक दूसरे को और खुद को असल प्रगति के मद्देनजर ज़िम्मेदार भी ठहराना है।

इस बीच, हम एक मल्टीलैटरल लीडर्स टास्ट फोर्स की अगुआई कर रहे हैं जो कि सरकार के भीतर और बाहर के विशेषज्ञों को मिलाकर बनाया गया है, जो खुलकर और पूरी कड़ाई से हमारी प्रगति का जायजा लेगा जी-20 से पहले और इस टास्क फोर्स की लगातार बैठकें होती रहेंगी।

सरकार की इसमें प्रमुख और केंद्रीय भूमिका है। लेकिन आज यहां जो भी प्रतिनिधित्व के लिए आए हैं- बहुस्तरीय संगठन, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थान, निजी सेक्टर, दानकर्ता, समुदाय आधारित संगठन और अन्य लोग—उन्हें भी अपनी भूमिका निभानी होगी।

अगर- अगर हम साथ मिलकर और जितनी तेजी से काम करना है वो करें तो हम इस महामारी को खत्म कर सकते हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि हम ये कर सकते हैं, ऐसा इसलिए भी क्योंकि पूरी दुनिया में अभूतपूर्व लोग हैं जो हर दिन काम कर रहे हैं, बीमारों की देखभाल कर रहे हैं और उनके परिवारों की, वो लगातार काम कर रहे हैं कि इस वायरस को हराया जाए।

आप जल्दी ही ऐसे ही कुछ लोगों को सुनेंगे—ज़िप्पोरा आइरेगी। वो और उनकी साथी नर्सों ने केन्या के रेफरल अस्पताल- किटुई काउंटी रीजनल में तब भी कोविड मरीजों की देखभाल करना नहीं छोड़ा जब उनके पास पीपीई किट तक नहीं थे; तब भी नहीं जब उन्हें टीका नहीं मिला; तब भी नहीं जब उन्हें अपने काम के पैसे नहीं मिले और तब भी नहीं जब उनके अपने परिजनों की, साथियों की मौत हुई इस वायरस के कारण। आप लोग इस वैश्विक प्रयास के असल हीरो हैं और मैं समझता हूं कि हममें से कई लोग आप लोगों के काम को देखकर चकित हैं कि आपने क्या कमाल किया है, हर दिन, लगातार, लोगों की देखभाल की है, जानें बचाई हैं और ऐसा करते रहे हैं चाहे हालात कैसे भी हों।

एंटोनिया रिचर्ड्स स्टीवर्ट जैसे लोग जो जमैका की एक नर्स हैं। यूएसएड द्वारा दी गई अतिरिक्त ट्रेनिंग और उपकरणों ने एंटोनिया और उनके साथियों की किंग्स्टन पब्लिक अस्पताल में मदद की लोगों की जानें बचाने में। लेकिन एंटोनिया कहती हैं कि महामारी में जो भी सबक उन्होंने सीखे वो कई मायनों में बहुत बेसिक थे और मैं उनकी बात कोट करता हूं: “कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई को जीतने में सबसे क्रिटिकल हम हैं, लोग हैं।” और अंतत हमेशा से यही होता आया है।

इसलिए अगर हम इस सम्मेलन से एक संदेश लेना चाहते हैं तो वो यही है कि ये हमारे ऊपर ही निर्भर है—हम क्या करते हैं इस कठिन समय में, आने वाले हफ्तों में, आने वाले महीनों में। इसलिए इस गंभीरता को समझा जाए, मेहनत की जाए जो इस संकट को खत्म करने के लिए ज़रूरी है और अगली महामारी को रोकने के लिए भी। यही असल में हमारा मिशन है। यह एक संकट है जिसमें हम सब साथ हैं। और मैं शुक्रिया अदा करता हूं उन सभी का जो इस दोपहर में इस बैठक में शामिल हुए हैं.

गेल स्मिथ, वापस आपकी ओर। और प्रधानमंत्री द्रागही, आपको यहां पाकर मैं बहुत खुश हूं. शुक्रिया.


मूल स्त्रोत: https://www.state.gov/secretary-antony-j-blinken-at-the-virtual-covid-19-summit/

अस्वीकरण: यह अनुवाद शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेज़ी स्त्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।

U.S. Department of State

The Lessons of 1989: Freedom and Our Future