अमेरिकी विदेश विभाग
प्रवक्ता का कार्यालय

अमेरिकी विदेश विभाग
विशेष ब्रीफ़िंग
राजदूत एरिका बार्क्स-रगल्स, वरिष्ठ ब्यूरो अधिकारी
अंतरराष्ट्रीय संगठन मामलों का ब्यूरो
सितंबर 20, 2021

श्री प्राइस:  सुप्रभात, और इस ब्रीफ़िंग कॉल में शामिल होने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद। आपके समक्ष हम संयुक्तराष्ट्र महासभा के उच्चस्तरीय सप्ताह के दौरान अगले कुछ दिनों में विदेश मंत्री ब्लिंकन के कार्यक्रमों का पूर्वावलोकन करना चाहेंगे। जैसा कि आप जानते हैं, हम आज दोपहर न्यूयॉर्क जा रहे हैं, और हम इस सप्ताह का अधिकांश समय वहीं बिताएंगे। इस कॉल में हमारे साथ मौजूद हैं – एरिका बार्क्स-रगल्स। वह हमारे अंतरराष्ट्रीय संगठन मामलों के ब्यूरो में वरिष्ठ ब्यूरो अधिकारी हैं। पहले उनकी कुछ आरंभिक टिप्पणियां होंगी, और फिर हम आपके प्रश्नों के जवाब दे सकेंगे। बस ये बताना चाहूंगा कि इस कॉल की रिपोर्टिंग की जा सकती है लेकिन ब्रीफ़िंग के समापन तक पर इस पर रोक रहेगी। तो, इसी के साथ, मैं एरिका को आमंत्रित करना चाहूंगा। आइए।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  सुप्रभात और नेड आपका धन्यवाद।

जैसा कि आप सभी जानते हैं, विदेश मंत्री ब्लिंकन आज संयुक्तराष्ट्र महासभा, या यूएनजीए के 76वें सत्र में भाग लेने के लिए रवाना हो रहे हैं, जिसे उच्चस्तरीय सप्ताह भी कहा जाता है।

विदेश मंत्री कल महासभा में राष्ट्रपति बाइडेन के अभिभाषण के दौरान मौजूद रहेंगे। वह कई द्विपक्षीय और बहुपक्षीय बैठकों में भी भाग लेंगे। विदेश मंत्री ब्लिंकन के बुधवार को व्हाइट हाउस द्वारा आयोजित कोविड-19 वर्चुअल शिखर सम्मेलन में भी भाग लेने की संभावना है। साथ ही, बुधवार को वह अफ़ग़ानिस्तान पर जी20 की बैठक में भाग लेंगे, और उनका पी5 के अपने समकक्षों से मिलने का भी कार्यक्रम है। अंत में, मैं जलवायु एवं सुरक्षा पर गुरुवार के लिए तय संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद के कार्यक्रम में विदेश मंत्री की भागीदारी का उल्लेख करना चाहूंगी। उनकी गुरुवार शाम को वाशिंगटन लौटने की योजना है।

जैसा कि आप जानते हैं, मौजूदा महामारी को देखते हुए इस वर्ष उच्चस्तरीय सप्ताह का स्वरूप बहुत अलग होगा। यूएनजीए प्रतिभागियों, अमेरिकी कर्मियों और न्यूयॉर्क सिटी की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। हमारा प्रतिनिधिमंडल छोटा होगा, और हमने कोविड से बचाव के मज़बूत उपायों के कार्यान्वयन हेतु संयुक्तराष्ट्र, सीडीसी और न्यूयॉर्क सिटी के साथ घनिष्ठता से काम किया है।

कोविड-19 को हराना अमेरिका की सर्वोच्च प्राथमिकता है, और संयुक्तराष्ट्र महासभा के दौरान भी यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता रहेगी। अमेरिका वैश्विक स्वास्थ्य सहायता का सबसे बड़ा द्विपक्षीय दाता है और कोविड-19 से निपटने के वैश्विक प्रयासों पर विमर्श का नेतृत्व करने के लिए सबसे अच्छी स्थिति में है। हम टीके के उत्पादन में तेजी लाने और दुनिया भर में जीवनरक्षक उपचार सुलभ कराने के लिए एक वैश्विक गठबंधन बना रहे हैं। हम इस महामारी को समाप्त करने और भविष्य के लिए वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा को मज़बूत करने हेतु अपने अंतरराष्ट्रीय साझेदारों के साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर हैं।

इसके अलावा, यूएनजीए में, हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय से जलवायु परिवर्तन से निपटने हेतु महत्वाकांक्षी प्रतिबद्धता घोषित करने का आग्रह करने पर अपना ध्यान केंद्रित करेंगे। अमेरिका इस मुद्दे पर अपना उदाहरण पेश करते हुए नेतृत्व कर रहा है। जैसा कि पहले घोषणा की गई है, हम उत्सर्जन में बड़ी कमी लाने और 2050 तक नेट-ज़ीरो उत्सर्जन का लक्ष्य पाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम अन्य देशों को धरती के तापमान को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लक्ष्य को अपनाने के लिए दृढ़ता से प्रोत्साहित करेंगे। अमेरिका पेरिस समझौते के तहत अपने प्रयासों को बढ़ा रहा है, और दिखा रहा है कि जलवायु संकट से निपटने के उपायों का मतलब है नई नौकरियां, नए अवसर और आर्थिक विकास।

साथ ही, अमेरिका संयुक्तराष्ट्र महासभा में अपने मंच का उपयोग मानवाधिकारों, लोकतांत्रिक मूल्यों और नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के समर्थन में आवाज़ उठाने के लिए भी करेगा। हम स्वदेश में एक अधिक परिपूर्ण संघ बनाने की अपनी प्रतिबद्धता पर ज़ोर देंगे, जबकि हम प्रणालीगत नस्लवाद को खत्म करने, घरेलू आतंकवाद के उभार का मुक़ाबला करने, असमानता से लड़ने, और मूल्यों पर आधारित आव्रजन सुधारों को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत हैं। यहां देश में और दुनिया भर में इन मूल्यों की रक्षा करना हमारी राष्ट्रीय ताक़त के लिए और विश्व स्तर पर अपने हितों को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक है। इसी के साथ मैं अपनी बात समाप्त करती हूं, और अब हम आपके सवालों का जवाब देंगे।

श्री प्राइस:  बढ़िया। बहुत-बहुत धन्यवाद। ऑपरेटर, आप चाहें तो सवाल पूछने से संबंधित निर्देशों को दोहरा सकते हैं।

ऑपरेटर:  ज़रूर, तो एक बार फिर बताना चाहूंगा कि किसी भी प्रश्न या टिप्पणी के लिए, आप पहले 1 और फिर 0 दबाकर कतार में आ सकेंगे – पहले 1 और फिर 0 दबाएं। आपका पूरा प्रश्न सुना जाए, इसके लिए कृपया बोलना शुरू करने से पहले मेरी घोषणा की प्रतीक्षा करें कि आपकी लाइन खोल दी गई है। एक बार फिर, अपने प्रश्नों या टिप्पणियों के लिए आपको 1 और फिर 0 दबाना होगा।

श्री प्राइस:  हम फ़्रांसेस्को फ़ोंटेमैगी की लाइन से शुरू करेंगे।

ऑपरेटर:  एक सेकेंड। फ़्रांसेस्को, आपकी लाइन खोल दी गई है।

प्रश्न:  धन्यवाद। सुप्रभात। मैं पूछना चाहता था – आपने कई द्विपक्षीय वार्ताओं का उल्लेख किया। मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि क्या पिछले सप्ताह आरंभ संकट के बाद फ़्रांस के विदेश मंत्री के साथ कोई द्विपक्षीय बैठक तय हुई है, और फ़्रांस के लिए क्या संदेश होगा – जो अभी तक की गई किसी भी बात से खुश नहीं हैं। और वे अभी भी संबंधों को फिर से परिभाषित करने की बात कर रहे हैं। धन्यवाद।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  बढ़िया। प्रश्न के लिए धन्यवाद। जैसा कि विदेश मंत्री और प्रशासन के अन्य लोगों ने कहा है, फ़्रांस हमारा सबसे पुराना सहयोगी है, हमारा सबसे पुराना दोस्त और साझेदार है, और अनेक मुद्दों पर एक अत्यंत मूल्यवान सहयोगी बना हुआ है। साफ है कि हम फ़्रांस से पी5 बैठक के तहत मिलेंगे, और हम आशा करते हैं कि हमारा शेड्यूल डायनेमिक रहेगा जैसा कि यूएनजीए में द्विपक्षीय और बहुपक्षीय बैठकें निर्धारित करते समय हमेशा रहा है।

श्री प्राइस:  हम अब हुमेरा पामुक का सवाल लेंगे।

ऑपरेटर:  एक सेकेंड। हुमेरा, आपकी लाइन खुल गई है।

प्रश्न:  नमस्ते। धन्यवाद। इस आयोजन के लिए धन्यवाद। मैं फ़्रांसेस्को के प्रश्न को थोड़ा और आगे बढ़ाना चाहती हूं। जब आप कहते हैं कि एजेंडा डायनेमिक है – और मैं इस बात को अच्छी तरह समझती हूं – क्या आप कह सकते हैं कि अमेरिका ने फ़्रांस के साथ बैठक का आग्रह किया है या, जैसे, फ़्रांसीसी विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय बैठक का? और उस बैठक में क्या संदेश होगा?

और एक छोटा सा प्रश्न, मैं आपसे कोविड टीके से संबंधित असमानता के बारे में पूछना चाहता हूं। इस बारे में पूरे सप्ताह चर्चा होने वाली है, और अमेरिका का क्या संदेश होगा, विशेषकर जब कोवैक्स अपने लक्ष्य से बहुत पीछे है? क्या अमेरिका अधिक टीके देने की प्रतिबद्धता जताएगा या वह बाक़ी दुनिया से अधिक योगदान का आग्रह करने की कोशिश करेगा? इस बारे में क्या रणनीति है? शुक्रिया।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  बढ़िया, दोनों ही प्रश्नों के लिए धन्यवाद। पहले की बात करें, तो जाहिर है, शेड्यूल डायनेमिक होने का जो मतलब होता है, बस वही है। मुझे लगता है कि आप सभी जानते हैं कि यूएनजीए की कार्यक्रम सूची कितनी भरी हो सकती है, और हम शेड्यूल पर काम करना जारी रख रहे हैं, और उम्मीद करते हैं कि इसमें रोज़ाना बदलाव होगा। और मुझे लगता है कि मैं फ़्रांस के लिए संदेश के बारे में पहले ही थोड़ा बोल चुकी हूं – कि उनके साथ हमारी पुरानी दोस्ती है, और जलवायु परिवर्तन से लेकर कोविड और ट्रांसअटलांटिक साझेदारी तथा दुनिया भर के सुरक्षा मुद्दों तक, अनेक वैश्विक मुद्दों पर साथ मिलकर काम करने की गंभीर आवश्यकता है।

कोविड और असमानता की बात करें, तो हम कोविड शिखर सम्मेलन के ज़रिए एक बड़ा गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं, सिविल सोसायटी, ग़ैरसरकारी संगठनों, परोपकारी संस्थाओं, अन्य सरकारों, और साथ ही उद्योगों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं – इस महामारी को समाप्त करने की कोशिश के लिए, वास्तव में इसे ख़त्म करने के लिए। दरअसल हम इस काम को शीघ्रता से करने, अपने प्रयासों को तेज करने और तीव्र टीकाकरण की महत्वाकांक्षा बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। और हम समझते हैं कि यह एक सतत प्रयास होना चाहिए, इसलिए यह एक बार की बात नहीं है। यह अप्रैल से जारी आयोजनों की श्रृंखला की एक कड़ी है, और ये प्रयास राष्ट्रप्रमुख स्तर की बैठकों में, जी7 में, विश्व स्वास्थ्य सभा में, और जी20 शिखर सम्मेलन में जारी रहेगा। ऐसे हर अवसर पर हम महामारी का अंत करने की दिशा में ज़ोरदार प्रयास करेंगे।

हम पहले ही दोनों तरह से अग्रणी हैं – टीकों का अग्रणी आपूर्तिकर्ता और कोवैक्स में सबसे बड़ा योगदानकर्ता। और हम आगे बढ़ते हुए अपनी महत्वाकांक्षा को बढ़ाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। हम जो कर रहे हैं उसमें समता की बात को भी सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि हम समझते हैं कि इनका समान रूप से वितरण नहीं हुआ है। कोविड का डेल्टा वेरिएंट दुनिया भर के देशों में तबाही मचा रहा है, लेकिन उन जगहों पर और भी अधिक जहां कि कम टीकाकरण हुआ है। और इसलिए, हमें ये सुनिश्चित करना है कि हम सभी अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करें। अमेरिका अब तक टीके की 140 मिलियन से अधिक ख़ुराकें बांट चुका है। हम और अधिक योगदान के लिए प्रतिबद्ध हैं – अतिरिक्त 560 मिलियन ख़ुराक प्रदान करने जा रहे हैं, और कोवैक्स के माध्यम से इसे साझा कर रहे हैं, बिना कोई शर्त लगाए, यह सुनिश्चित करने के लिए कि ये ख़ुराक वहां पहुंचें जहां कि उनकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत है।

हम दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं – उनके द्वारा प्रदत्त ख़ुराकों की संख्या बढ़ाने के लिए, कोवैक्स को समर्थन बढ़ाने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए कि हम जल्दी से टीकाकरण कर सकें। तो हमारा उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि हम इन प्रयासों को आगे बढ़ाएं। जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा है, और जैसा कि विदेश मंत्री ने कहा है, यदि हम इस पर ध्यान नहीं देंगे तो नए वेरिएंट आते रहेंगे, और इसलिए हममें से कोई भी तब तक सुरक्षित नहीं है, जब तक कि हम सभी का टीकाकरण नहीं हो जाता।

श्री प्राइस:  अब मिशेल केलमेन का सवाल लेते हैं।

ऑपरेटर:  एक सेकेंड। मिशेल आपकी लाइन खुली है। कृपया अपना सवाल पूछिए।

प्रश्न:  धन्यवाद। आपने अफ़ग़ानिस्तान पर जी20 बैठक का उल्लेख किया, लेकिन मैंने एक अन्य कार्यक्रम सूची में देखा है कि मंगलवार को अफ़ग़ानिस्तान पर एक मंत्रिस्तरीय बैठक हो रही है। क्या अमेरिका इसमें भाग ले रहा है? अमेरिका अब अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्तराष्ट्र को किस भूमिका में देखना चाहता है? और क्या अमेरिकी विदेश मंत्री की ईरान के नए विदेश मंत्री से मिलने की कोई योजना है जोकि वहां मौजूद हैं? यदि नहीं, तो क्यों नहीं?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  बढ़िया। तो, हां, मैं समझती हूं अफ़ग़ानिस्तान पर मंत्रिस्तरीय बैठक में अमेरिका भाग लेने जा रहा है। और जहां तक संयुक्तराष्ट्र की भूमिका की बात है, मुझे लगता है कि हमने इस बारे में पहले भी बात की है। हम यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं कि संयुक्तराष्ट्र और एनजीओ साझेदार मानवीय सहायता, जीवनरक्षक खाद्य सहायता एवं चिकित्सा सहायता प्रदान करने में सक्षम हों, साथ ही मानवाधिकारों का, विशेषकर महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान सुनिश्चित करने के लिए अपना महत्वपूर्ण कार्य जारी रखें। हम वहां ज़मीन पर मौजूद संयुक्तराष्ट्र के साथ घनिष्ठता से काम कर रहे हैं, ये सुनिश्चित करने के लिए कि वे खाद्य सहायता प्रदान करने में सक्षम हों और वे सर्दियों में सहायता के लिए पहले से खाद्य पदार्थों और दवाओं की आपूर्ति की व्यवस्था कर सकें।

और हम आशा करते हैं कि आगे ये सब विषय चर्चा में शामिल होंगे। लेकिन साथ ही हम ये सुनिश्चित करने के लिए क्षेत्र में और विश्व स्तरों पर अन्य पक्षों के साथ भी काम कर रहे हैं कि तालिबान उन प्रतिबद्धताओं पर खरा उतरे जिनके तहत उन्होंने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान को आगे कभी भी आतंकवाद का अड्डा नहीं बनने दिया जाएगा; कि वे मानवीय सहायता की पहुंच देने, विदेशी नागरिकों एवं अफ़ग़ानों सहित अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने के इच्छुक लोगों को ऐसा करने की अनुमति देने, तथा महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान करने की अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करें। इसलिए, हमें पूरी आशा है कि ये सारे विषय चर्चा में शामिल होंगे।

जहां तक ईरान की बात है, तो हम संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के पारस्परिक अनुपालन की राह पर वापसी के लिए सार्थक कूटनीति करते रहने के लिए प्रतिबद्ध हैं, और प्रशासन इन मुद्दों पर पी5+1 और साथ ही क्षेत्र के अन्य मित्रों और सहयोगियों के साथ परामर्श करना जारी रखेगा। इन मुद्दों पर, न्यूयॉर्क में, जैसा कि आप जानते हैं, हम विशेष दूत रॉब मैले के ज़रिए इन वार्ताओं को जारी रखेंगे। और हम आशा करते हैं कि वियना प्रारूप के तहत बातचीत जारी रहेगी।

श्री प्राइस:  अब हम जेनिफ़र हैंसलर का सवाल लेते हैं।

ऑपरेटर:  जेनिफ़र, आपकी लाइन खोल दी गई है।

श्री प्राइस:  जेनी, शायद आपका माइक म्यूट है। हां, अब हम आपको सुन पा रहे हैं।

प्रश्न: नमस्कार। माफ़ करें। क्या अब आप मुझे सुन पा रहे हैं?

श्री प्राइस:  हां।

प्रश्न:  शुक्रिया। मैं मिशेल के सवाल को ही आगे बढ़ाना चाहती हूं। हां या नहीं में बताएं कि क्या अमेरिकी विदेश मंत्री ईरान के विदेश मंत्री से मिलेंगे? धन्यवाद।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  जैसा कि मैंने कहा, हमें उम्मीद है कि वियना प्रारूप में हमारी बातचीत जारी रहेगी।

श्री प्राइस:  अब हम निक वैडहैम्स के पास चलते हैं।

प्रश्न:  नमस्कार, क्या आप मुझे सुन पा रहे हैं?

ऑपरेटर:  आपकी लाइन खुली है, निक।

प्रश्न:  अच्छा, धन्यवाद। मैं शुरुआत के कुछ प्रश्नों को आगे बढ़ाना चाहता हूं। यह समझते हुए कि शेड्यूल डायनेमिक है और विदेश मंत्री के एजेंडे में पहले से ही कई द्विपक्षीय वार्ताएं हैं, क्‍या अमेरिकी विदेश मंत्री फ़्रांस के विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय वार्ता का प्रयास कर रहे हैं? धन्यवाद।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  क्षमा करें, मुझे थोड़ा अस्पष्ट सुनाई दिया। मैंने सुना, “क्या विदेश मंत्री,” और फिर मैं प्रश्न का अंतिम भाग नहीं सुन पाई, जो मुझे लगता है कि ज़रूरी हिस्सा था।

प्रश्न:  क्या वह फ़्रांस के विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय वार्ता का प्रयास कर रहे हैं?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  मुझे नहीं लगता कि बैठकों की शेड्यूलिंग को लेकर हो रहे प्रयासों पर चर्चा करना मेरे लिए उपयोगी है। मुझे लगता है कि विदेश मंत्री का कार्यक्रम जो अभी निर्धारित है, वहीं है, लेकिन यह समय के साथ बदलता रहेगा। जैसा कि मैंने कहा, हम फ़्रांस से पी5 बैठक में मिलेंगे, और हम वहां उनके साथ चर्चा के लिए उत्सुक हैं, साथ ही जाहिर है कि अन्य स्तरों पर चर्चा जारी रहेगी।

श्री प्राइस:  अब जॉन हडसन के पास चलते हैं।

ऑपरेटर:  एक सेकेंड। जॉन, आपकी लाइन खुली है।

प्रश्न:  नमस्ते। धन्यवाद। जब यात्रा प्रतिबंध हटाने की बात आती है, तो क्या यह परमाणु समझौते के संदर्भ में असफलताओं के बाद गठजोड़ को बहाल करने के वादों को पूरा करने की कोशिशों के तहत है? क्या आप इस बारे में कुछ बताएंगी?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  तो, आप में से जो इस पर क़रीब से नज़र नहीं रख रहे हैं या आज सुबह इसे नहीं देखा है, उन्हें बताना चाहूंगी कि जॉन 212 (एफ़) यात्रा प्रतिबंधों का ज़िक्र कर रहे हैं। आज सुबह व्हाइट हाउस से कोविड महामारी के कारण जारी प्रतिबंधों को हटाने की घोषणा की गई है। इस बारे में और जानकारी दी जाएगी, पर वास्तव में ये कोविड के विज्ञान पर आधारित है। और जब दुनिया भर में अधिकाधिक लोगों को टीका लगाया जा रहा है, हम निश्चित रूप से चाहते हैं कि लोग अधिक खुलकर यात्रा करने में सक्षम हों। और हम वास्तव में हमेशा विज्ञान के आधार पर क़दम उठाते रहे हैं, और हम ऐसा करना जारी रख रहे हैं। और जैसा कि मैंने कहा, इस बारे में व्हाइट हाउस आगे विस्तृत जानकारी देगा।

श्री प्राइस:  अब वीओए के ह्योंगजू पार्क के पास चलते हैं।

ऑपरेटर:  एक सेकेंड। माफ़ करें, फिर से नाम बताएं।

श्री प्राइस:  ह्योंगजू पार्क।

ऑपरेटर:  बढ़िया, शुक्रिया। ह्योंग, आपकी लाइन खुली है। कृपया सवाल पूछिए।

प्रश्न:  जी, मेरा प्रश्न उत्तर कोरिया के बारे में है। जैसा कि आप जानते हैं, आईएईए प्रमुख राफ़ेल ग्रोसी आज आईएईए की वार्षिक बैठक में अपने भाषण में बताने जा रहे हैं कि उत्तर कोरिया का परमाणु कार्यक्रम ज़ोरशोर से आगे बढ़ रहा है – न केवल प्लूटोनियम, बल्कि वहां यूरेनियम संवर्धन भी जारी है। और यह जानकारी पिछले सप्ताह संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद में बंद कमरे की बैठक के बाद सामने आई है, जहां कुछ सदस्य देशों ने उत्तर कोरिया द्वारा हाल ही में छोटी बैलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण, जोकि संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का उल्लंघन है, की निंदा की। इसलिए, मैं पूछना चाहती थी कि क्या संयुक्तराष्ट्र महासभा के दौरान बाइडेन प्रशासन का उत्तर कोरिया के लिए कोई संदेश होगा? यदि हां, तो वो संदेश क्या होगा?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  हां, अमेरिका का प्रयास जारी है – क्षमा करें, मुझे प्रतिध्वनि सुनाई दे रही है। जैसा कि आपने बताया, अमेरिका ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की निंदा की है। और हमने उस बारे में एक कड़ा बयान दिया है – सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के उल्लंघन के साथ-साथ यह उत्तर कोरिया के पड़ोसियों, अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सदस्यों और स्पष्ट रूप से इस क्षेत्र में हमारे निकट सहयोगियों के लिए ख़तरा है।

हम उत्तर कोरियाइयों के प्रति एक कूटनीतिक दृष्टिकोण के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं और हमने उनसे बातचीत में शामिल होने का आह्वान किया है। और हम ऐसा करना जारी रखेंगे। हमने यह भी पूरी तरह से स्पष्ट कर दिया है कि दक्षिण कोरिया और जापान की रक्षा के प्रति हमारी प्रतिबद्धता पूरी तरह से क़ायम है। हमारे प्रतिबंध और संयुक्तराष्ट्र के प्रतिबंध यथावत हैं, और हम उन्हें लागू करना जारी रखेंगे, और दूसरों से भी उन्हें मज़बूती से लागू करने का आग्रह करेंगे।

हमने बार-बार कहा है कि हम बिना किसी पूर्व शर्त के उत्तर कोरियाइयों से मिलने के लिए तैयार हैं, और हमें उम्मीद है कि वे इस पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देंगे, लेकिन दुख की बात है कि आज तक, उन्होंने ऐसा नहीं किया है।

श्री प्राइस:  अब हम माइकल ग़ैंडोर के पास चलते हैं।

ऑपरेटर:  माइकल, आपकी लाइन खुली है।

प्रश्न:  हां, धन्यवाद। आपने कहा कि आप वियना प्रारूप के तहत ईरान के साथ बातचीत के लिए प्रतिबद्ध हैं। क्‍या उनके साथ वापस बातचीत करने के लिए आपके पास कोई विशिष्‍ट तारीख है? और क्या आपको लगता है कि यह प्रारूप अभी भी क़ायम है?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  मेरे पास इस बारे में कोई विशिष्ट तिथि नहीं हैं, और मैं इसे हमारे विशेष दूत मैले पर छोड़ना चाहूंगी। मुझे पता है कि हमने कहा है कि हम फिर से बातचीत करने के लिए तैयार हैं, और हमें उम्मीद है कि हमें जल्द ही इस पर ईरानियों की प्रतिक्रिया मिलेगी।

श्री प्राइस:  अब हम आखिरी कुछ सवाल लेंगे। हम चलते हैं जेम्स मार्टोन के पास।

ऑपरेटर:  जेम्स, आपकी लाइन खुली है।

प्रश्न:  नमस्ते, बहुत-बहुत धन्यवाद। विदेश मंत्री ब्लिंकन के बारे में, आपने कहा था कि वह अफ़ग़ानिस्तान पर मंत्रिस्तरीय बैठकों में शामिल होंगे। क्या तालिबान द्वारा विशेष रूप से अल-क़ायदा और अन्य समूहों को आतंकवाद के सुरक्षित पनाहगाह के रूप में अफ़ग़ानिस्तान का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं देने संबंधी आशंकाओं या प्रतिबद्धताओं के बारे में कोई विशेष बातचीत होगी?

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  हां, हमारा अनुमान है कि यह चर्चा का एक बड़ा विषय होगा, लेकिन वार्ताएं एकमात्र इसी मुद्दे पर नहीं होंगी जोकि हम कई देशों के साथ करेंगे, और पी5 की बैठक में भी। हम आइसिस, अल-क़ायदा और अन्य आतंकवादी समूहों द्वारा अमेरिका, हमारे मित्रों, हमारे सहयोगियों या क्षेत्र के अन्य देशों की सुरक्षा को ख़तरे में डालने के लिए अफ़ग़ान धरती के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देने की उनकी प्रतिबद्धता के बारे में बात करेंगे। यह एक ऐसा मुद्दा है जिस पर हम उनके साथ शुरू से ही ज़ोर देते रहे हैं।

विदेश मंत्री ने स्पष्ट किया है कि हम सभी को सतर्क रहना है, और हमें अफ़ग़ानिस्तान से बनने वाले ख़तरों, विशेष रूप से अफ़ग़ानिस्तान से किसी भी संभावित आतंकवादी ख़तरे के उभार पर निगरानी रखनी होगी। और इसलिए, हम आशा करते हैं कि यह चर्चा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होगा। लेकिन जाहिर है कि यह एकमात्र मुद्दा नहीं होगा, क्योंकि अन्य प्रतिबद्धताएं भी हैं जिन पर हम चाहते हैं कि वे खरा उतरें, जैसा कि मैंने उल्लेख किया है, उनकी मानवाधिकार संबंधी प्रतिबद्धताएं, विशेष रूप से महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के अधिकारों के संबंध में; उनके द्वारा की गईं मानवीय सहायता की पहुंच संबंधी प्रतिबद्धताएं और साथ ही उन लोगों को निकलने देने की अनुमति देने की प्रतिबद्धता जोकि अफ़ग़ानिस्तान छोड़ना चाहते हैं। इस प्रकार, न्‍यूयॉर्क में होने वाली बैठकों की एक पूरी श्रृंखला के दौरान इन सभी मुद्दों पर ज़ोरदार तरीक़े से चर्चा की जाएगी।

श्री प्राइस:  अब नाइक चिंग के पास चलते हैं।

ऑपरेटर: नाइक, आपकी लाइन खुली है।

प्रश्न:  नमस्ते, बहुत शुक्रिया। इस ब्रीफ़िंग कॉल के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। उत्तर कोरिया के विषय पर ही, आपने अभी उल्लेख किया है कि अमेरिका बिना किसी पूर्व शर्त के उत्तर कोरियाई अधिकारियों से मिलने के लिए तैयार है। क्‍या हम संयुक्‍तराष्‍ट्र में उत्‍तर कोरिया के प्रतिनिधि के साथ किसी प्रकार की बातचीत और साइड मीटिंग से इनक़ार कर सकते हैं?

और क्या आप – और अलग से, क्या यूएनजीए के दौरान विदेश मंत्री ब्लिंकन की चीनी अधिकारियों के साथ कोई साइड मीटिंग निर्धारित है? आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

और हां – माफ़ करें – क्या आप दक्षिण कोरियाई और जापानी अधिकारियों के साथ बैठक के बारे में बता सकती हैं? और क्या आप छह-पक्षीय वार्ता में वापसी को तैयार हैं, जिसके बारे में कुछ मीडिया रिपोर्टों में संकेत दिया गया है? धन्यवाद।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  बढ़िया। तो मुझे लगता है कि मुझे चार प्रश्नों की एक श्रृंखला मिली है। उत्तर कोरिया पर, जैसा कि मैंने कहा, हमने बार-बार कहा है कि हम बिना किसी पूर्व शर्त के उत्तर कोरिया के साथ बातचीत के लिए तैयार हैं। हमने आशा की थी कि वे इस बारे में हमारी पहल पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देंगे; लेकिन आज तक उन्होंने ऐसा नहीं किया है।

जहां तक ​​चीनी प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक का सवाल है, मेरा मानना ​​है कि चीनी संयुक्तराष्ट्र महासभा में अधिकतर वर्चुअल तरीक़े से भाग लेने जा रहे हैं, इसलिए हम उनसे बहुपक्षीय बैठकों के दौरान बात कर पाएंगे। इस समय हमारे शेड्यूल में उनके साथ वर्चुअल द्विपक्षीय बातचीत का कार्यक्रम नहीं है; इसका मतलब यह नहीं है कि यह बाद में शामिल नहीं हो सकता है। लेकिन इस समय, मेरा मानना ​​है कि विदेश मंत्री के चीनी समकक्ष व्यक्तिगत रूप से यहां नहीं आ रहे हैं।

दक्षिण कोरिया और जापान के साथ एक बैठक निर्धारित है – आपका तीसरा प्रश्न – और हम निश्चित रूप से उत्तर कोरिया सहित क्षेत्रीय सुरक्षा संबंधी विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उस बैठक की प्रतीक्षा कर रहे हैं। और हम दोनों देशों के साथ और हम तीनों के बीच अच्छी चर्चा होने की आशा करते हैं। हमारे पास इस समय छह-पक्षीय वार्ता के बारे में कोई नई सूचना नहीं है।

श्री प्राइस:  और अब आखिरी सवाल लेते हैं मिसी रयान का।

ऑपरेटर:  मिसी, आपकी लाइन खुली है।

प्रश्न:  धन्यवाद। क्षमा करें, यदि यह सवाल पूछा जा चुका है, लेकिन मैं बस जानना चाहूंगी कि मिस्र के विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय बातचीत के दौरान क्या संदेश दिया जाएगा, विशेषकर सुरक्षा सहायता देने के हालिया निर्णय और उसकी कुछ मानवाधिकार संगठनों द्वारा आलोचना किए जाने के मद्देनज़र। धन्यवाद।

सुश्री बार्क्स-रगल्स:  हां, स्पष्ट रूप से, हमारे पास मिस्रियों के साथ चर्चा के लिए बहुत सारे मुद्दे हैं, जिन्हें हम उस बैठक में उठाने के लिए तत्पर हैं। इनमें द्विपक्षीय मुद्दों सहित क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दे, साथ ही जीईआरडी और इथियोपिया की स्थिति समेत अफ़्रीकी मुद्दे शामिल हैं, जोकि स्पष्टतया हम सभी से संबंधित है। इसलिए, हम उनके साथ एक व्यापक एजेंडे पर बातचीत की आशा करते हैं जिसमें कई मुद्दे सामने आएंगे, जिनमें से कुछ ऐसे भी हैं जिनका कि आपने ज़िक्र किया है।

श्री प्राइस:  बढ़िया। इसी के साथ आज की ब्रीफ़िंग संपन्न होती है। मैं अपनी वक्ता, अंतरराष्ट्रीय संगठन मामलों के हमारे ब्यूरो की वरिष्ठ ब्यूरो अधिकारी एरिका बार्क्स-रगल्स को फिर से धन्यवाद देना चाहता हूं। हमसे जुड़ने के लिए आप सभी का धन्यवाद और आप में से कइयों से हमारी न्यूयॉर्क में मुलाक़ात होगी। बहुत-बहुत धन्यवाद।


मूल स्रोत: https://www.state.gov/briefing-with-bureau-of-international-organization-affairs-senior-official-erica-barks-ruggles-on-u-s-participation-at-the-76th-un-general-assembly/

अस्वीकरण: यह अनुवाद शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेज़ी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।

U.S. Department of State

The Lessons of 1989: Freedom and Our Future